• Only jobs to Kashmiri youth can heal wounds: Asif

    sm-asif-picNEW DELHI, 05 August, 2020 - A year after the nullification of Articles 370, the All India Minority Front (AIMF) has demanded  better infrastructure and jobs for the youth of Union territories of Jammu and Kashmir and Ladakh.

    “Unemployment is a major concern in the Kashmir Valley in the past as one of the reasons for young men taking up arms against the State,” said SM Asif, national president of the AIMF. 

    “If the government fulfills its promise, the youth would have jobs. But there is no development and no jobs. Nothing has really changed in the past one year,” Mr Asif said in a statement issued on Wednesday. 

    “Things have not been easy but will become more difficult, with outsiders coming in. The youth of Kashmir won’t be able to compete with them,” he explained. 

    “Only if the Union territories had jobs for youth and good infrastructure, things would be slightly better,” said Mr Asif. 

    Even so, young Kashmiris need to be assured that skill development and employment creation schemes will continue and many more jobs will be generated in which the locals receive preference. This could serve as a balm for young people tormented by uncertainty over their future, Mr Asif suggested.

     
  • कश्मीर और लद्दाख के नागरिकों को रोजी रोजगार दे केंद्र सरकार : आसिफ

    IMG_4432नई दिल्ली : ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है। की कश्मीर से धारा 370 और 35 ए हटाए हुए आज एक वर्ष ही गया है। अब कश्मीर और लद्दाख केंद्र साशित प्रदेश हे। ऐसे में। अब यहां के नागरिकों को रोजी रोजगार देना केंद्र का काम है। लेकिन यह अभी तक नहीं हुआ है।

    लोगो में निराशा है कि आखिर कब उनकी खुशहाली वापिस आएगी। आसिफ ने कहा 370 खत्म होने के एक साल बाद स्थानीय लोगों के सामने रोजी रोटी, रोजगार सबसे बड़ा सवाल है। ज्यादातर भर्तियां ठप हैं। स्थानीय कश्मीरियों में काम नही होने की शिकायत आम है।  बहुत से लोगों को धारा 370 समाप्त होने से अपने हक में बाहरी दखल की आशंका भी नजर आती है।

    अधिवासी नीति को लेकर भी बहुत से लोग सवाल खड़े कर रहे हैं। लेकिन दूसरी तरफ बड़ी संख्या में माइग्रेंट वर्कर का कश्मीर में दोबारा वापस आना एक अलग भरोसे की कहानी बयान कर रहा है। दावा किया जा रहा है कि कोविड संकट के बावजूद करीब 50 हजार माइग्रेंट वर्कर वापस घाटी में आये हैं।

    उन्होंने कहा कि यदि यहां के बच्चो को काम मिलेगा तो बच्चों का दिमाग इधर उधर नही जाएगा। काम नही मिलता तो बच्चो का दिमाग इधर उधर जाता है। इसलिए आईएमएफ मांग करती है कि कश्मीर में केंद्र जल्दी से लोगो के रोजी और रोजगार की व्यवस्था करे।

  • کشمیر اور لداخ کے شہریوں کو ملازمت دے مرکزی حکومت : آصف

    نئی دہلی05اگستsm-asif-pic12020
    آل انڈیامائنارٹیز فرنٹ کے قومی صدر ایس ایم آصف نے کہا کہ کشمیر سے دفعہ 370 اور 35 اے کو ہٹانے کے بعد آج ایک سال ہوگیا ہے۔ اب کشمیر اور لداخ مرکزکے زیرانتظام ریاست ہے۔ ایسے میں اب یہ مرکز کا کام ہے کہ وہ اپنے شہریوں کو معاش کا روزگار فراہم کرے۔ لیکن یہ ابھی تک نہیں ہوا۔ لوگ مایوس ہیں کہ آحر کب ان کی خوشحالی واپس آئے گی۔

    آصف نے کہا کہ 370 کے خاتمے کے ایک سال بعد ، مقامی لوگوں کے سامنے روزگار سب سے بڑا سوال ہے۔ زیادہ تر بھرتیاں رکی ہوئی ہیں۔ مقامی کشمیریوں میں کام نہ کرنے کی شکایات عام ہیں۔ بہت سے لوگ آرٹیکل 370 کے خاتمے کے ساتھ اپنے حق میں بیرونی مداخلت کا امکان بھی دیکھتے ہیں۔ بہت سے لوگ قابضین کی پالیسی پر بھی سوال اٹھا رہے ہیں۔ لیکن دوسری طرف ، مہاجر مزدوروں کی ایک بڑی تعداد واپس کشمیر آرہی ہے جو ایک الگ کہانی سنارہی ہے۔ یہ دعوی کیا جارہا ہے کہ کووڈ بحران کے قریب 50000 تارکین وطن مزدور وادی میں واپس آئے ہیں۔

    انہوں نے کہا کہ اگر یہاں بچوں کو کام مل گیا تو بچوں کا دماغ یہاں اور وہاں نہیں جائے گا۔ اگر کام نہیں ملتا ہے تو بچوں کا دماغ ادھر ادھرجاتا ہے۔ لہذا ، آل انڈیا مائنارٹیز فرنٹ کا مطالبہ ہے کہ کشمیر میں مرکز لوگوں کے روزگار کا بندوبست کرے۔

  • Severely impacted by Covid-19, Asif seeks relief for traders

    IMG_4432NEW DELHI, 04 August, 2020 - The All India Minority Front (AIMF) urged the government to provide special relief to traders in the country, saying this sector is the backbone of the economy and their collapse would cause massive unemployment.

    Incomes have reduced to zero due to the lockdown and the revenue of the entire sector has come to a grinding halt. Despite this, the shop owners and other traders are constantly burdened with their workers’ salary, loan instalments, rent, commercial tax and fixed electricity bill, the AIMF chief SM Asif said.

    He said many traders association has sent a memorandum to him, as per which many of the shops are on the verge of closure and up to 40 percent of shops will shut down if they do not get relief from trade license fee soon.
    Their main demands include abolition of all license fees (specially Municipal Corporations) in any form for the financial year 2020-21, and deferment of GST payments for FY21 by one year, he said.

    Therefore, it is important to consider the demands of these traders while there is still some time for recovery and special economic relief should be given to them, the AIMF leader said in a statement.

  • ملک میں تاجروں کی حالت ٹھیک کرنے کےلئے لائسنس راج سے نجات دلائے حکومت: آصف

    نئی دہلی04اگستsm-asif-pic12020
    آل انڈیامائنارٹیزفرنٹ کے قومی صدر ایس ایم آصف نے کہا کہ کرونا کی وجہ سے ملک کی معیشت کے تاجر برے وقت میں گذار رہے ہیں۔دوسری طرف ان کا کاروبار کورونا نے برباد کردیا ہے اور مختلف قسم کے لائسنسوں کے ٹیکس سے ان کا کاروبار ختم ہونے والا ہے۔ آصف نے کہا کہ تاجر برادری خصوصا بڑے شہروں کے دکانداروں کو کاروبار کرنے میں آسانی کا فائدہ نہیں مل رہا ہے اور تاجروں کے لئے مرکزی حکومت ، ریاستی حکومت کے علاوہ مقامی حکومت (خصوصا میونسپل کارپوریشن) اور پولیس انتظامیہ کے طرح طرح کے لائسنس حاصل کرنا لازمی ہے، ان بہت سارے لائسنسوں کے حصول کا عمل اتنا پیچیدہ ہے کہ کوئی تاجر ان تمام لائسنسوں کو صرف کنسلٹنٹس کے ذریعے حاصل کرسکتا ہے ۔ ان تمام عملوں کو مکمل کرنے میں ایک تاجر کو سالانہ اوسطا پچاس ہزار سے ایک لاکھ روپے خرچ کرنا پڑتے ہیں ، جس میں حکومت کو ملنے والے ٹیکس کی رقم بہت کم ہوتی ہے۔

    آصف نے مرکزی حکومت کی توجہ تجارتی لائسنس کی طرف مبذول کروائی اور بتایا کہ تجارتی لائسنس جو ملک کے مختلف میونسپل کارپوریشنوں میونسپلٹیوں کے ذریعہ دیا جاتا ہے۔ ایک چھوٹی سی دکان کھولنے کے لئے کسی بھی تاجر کو میونسپل کارپوریشن سے تجارتی لائسنس لینا ہوتا ہے۔ کمپنی کے قانون یا شراکت داری قانون ، جی ایس ٹی رجسٹریشن ، انکم ٹیکس کا پین کارڈ ، فوڈ سیفٹی لائسنس ، مقامی ادارہ (خوراک اشیاءدکاندار کے لئے) شاپ ایکٹ کے تحت جاری کردہ لائسنس کے تحت رجسٹریشن رجسٹریشن ، بینکوں سے قرض لیا جاتا ہے ، بجلی ٹیلیفون کنکشنہیں ، یہ لائسنس لینے کے بعد بھی دکاندار کو میونسپل کارپوریشن سے تجارتی لائسنس لینا پڑتا ہے۔

    اگرچہ ان اشیاءسے ان بلدیاتی اداروں کو کوئی بھاری آمدنی نہیں ہوتی ہے ، لیکن ایک تاجر کے لئے یہ ایک ہراساں کرنے والا عمل ہے اور بدعنوانی بھی عروج پر ہے۔ یہاں ایک اہم نکتہ یہ ہے کہ پراپرٹی ٹیکس کمرشل عمارتوں یا دکانوں پر میونسپل کارپوریشن بلدیات نے عائد کیا ہے ، جو رہائشی علاقے سے 15 گنا زیادہ ہے۔ جب کوئی تاجر یا دکاندار کاروباری املاک پر پراپرٹی ٹیکس ادا کرتا ہے تو ایسی صورتحال میں تجارتی لائسنس کی ضرورت نہیں ہوتی ہے۔ لہذا ، آل انڈیا مائنارٹیز فرنٹ کا مطالبہ ہے کہ مرکزی حکومت فوری طور پر ملک کے تاجروں کا یہ مسئلہ حل کرے۔

  • देश में व्यापारियों की हालात ठीक करने के लिए लाइसेंस राज से मुक्ति दे सरकार : आसिफ

    sm-asif-picनई दिल्ली : ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है। कि कोरोना के कारण देश की अर्थव्यवस्था के व्यापारी बुरे दौर में जी रहे है। एक और तो कोरोना से उनका व्यापार उजड़ गया तो वहीं दूसरी ओर तरह तरह के लाइसेंसो का टैक्स उनके काम धंधों को बिल्कुल समाप्ति की और के जा रहा है।

    आसिफ ने कहा व्यापारी समुदाय खासकर बड़े शहरो के दुकानदारों को अभी कारोबारी सुगमता का लाभ नहीं मिल पा रहा है और व्यापारियों को केंद्र सरकार ,प्रदेश सरकार  के अतिरिक्त स्थानीय निकायों (विशेषकर नगर निगम) एवं पुलिस प्रशासन के विभिन्न प्रकार के लाइसेंस को प्राप्त करना अनिवार्य है।  इन अनेको लाइसेंस लेने की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि एक व्यापारी को सलाहकारों के माध्यम से ही यह सब लाइसेंस प्राप्त हो सकते है अन्यथा नहीं।

    इन सभी प्रक्रियाओं को पूरा करने में  एक व्यापारी को औसतन औसतन पचास हज़ार से एक लाख रूपए तक प्रति वर्ष तक खर्च करने पड़ जाते है जिसमे सरकार को प्राप्त होने वाली कर की धनराशी बहुत कम होती है।

    आसिफ ने केंद्र सरकार का ध्यान ट्रेड लाइसेंस के और आकर्षित करते हुई सूचित किया कि ट्रेड लाइसेंस जो राष्ट्र की विभिन्न नगर निगमों / नगर पालिकाओं द्वारा प्रदान किया जाता है।  एक छोटी से छोटी दूकान खोलने के लिए किसी भी व्यापारी को नगर निगम से एक ट्रेड लाइसेंस लेना पड़ता है। जिस व्यापारी के पास पहले से ही कंपनी कानून या पार्टनरशिप कानून के तहत पंजीकरण है ,जीएसटी रजिस्ट्रेशन है,आयकर का पैन कार्ड है,फ़ूड सेफ्टी का लाइसेंस है,स्थानीय निकाय द्वारा जारी हेल्थ लाइसेंस (खाद्य वस्तु के दूकानदार के लिए ) शॉप एक्ट का पंजीकरण है, बैंको से ऋण प्राप्त किया हुआ है , बिजली / टेलीफोन के कनेक्शन है , इतने लाइसेंस लेने के बाद भी  होने के भी दुकानदार को नगर निगम से ट्रेड लाइसेंस लेना पड़ता है।

    यधपि इस मद से इन स्थानीय निकायों को कोई भारी आय नहीं होती ,परन्तु एक व्यापारी के लिए यह एक उत्पीड़न भरा कार्य है और इसमें भ्रष्टाचार भी चरम सीमा पर होता है। यहाँ एक महत्वपूर्ण बात यह है कि   नगर निगम /नगर पालिकाओं  द्वारा व्यावसायिक भवन या दुकानों पर संपत्ति कर वसूला जाता है जो रिहायशी क्षेत्र के मुकाबले लगभग 15 गुना ज्यादा होता है।

    जब एक व्यापारी या दुकानदार व्यावसायिक संपत्ति पर एक बढ़ा हुआ संपत्ति कर देता है तो ऐसे अवस्था में ट्रेड लाइसेंस की कोई आवश्यकता नहीं रह जाती। इसलिए ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट की मांग है। कि देश के व्यापारियों कि इस समस्या का केंद्र सरकार तुरंत निवारण करे।

  • Asif welcomes Trust to invite Muslims for ‘bhumi pujan’

    IMG_4432NEW DELHI, 04 August, 2020 - The All India Minority Front (AIMF) has welcomed Shri Ram Janmabhoomi Theertha Kshetra Trust decision to invite people of all faiths including Muslims for the ‘bhumi pujan’ of  Ram Janmabhoomi temple construction in Ayodhya on August 5.

    Party leader SM Asif in a statement said “On the proposal of AIMF, the temple trust did a good job to invite people from all religions for the foundation laying ceremony.”

    Mr Asif said that Ram Mandir ‘bhumi pujan’ is a historic moment and the list of invitees also includes several Muslim leaders from the region.

    Shri Ram Janmabhoomi Theertha Kshetra Trust has taken the good message of “peace, unity and harmony” to the people, the AIMF chief added.

    “We believe Lord Ram is Pagambur because he has perfected and established many family, political, social, religious and moral responsibilities in an ideal way,” he said.

  • राम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट ने Aimf की मांग पर सभी धर्मों के लोगों को आमंत्रण देकर भाईचारे का संदेश दिया : आसिफ

    sm-asif-picनई दिल्ली ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रेंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है कि राम जन्मभूमि शिलान्यास समारोह में ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रेंड की मांग पर राम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट ने सभी धर्मों के लोगों को आमंत्रण देकर देश में एक भाईचारे की मिसाल कायम की है इससे देश में जहां भाईचारा बढ़ेगा तो वहीं दूसरी ओर देश प्रेम की भावना भी लोगों में बढ़ती रहेगी

    उन्होंने राम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट को धन्यवाद देते हुए एक पत्र लिखा है। और कहा है कि आपने ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रं ट की मांग पर मुस्लिमों सहित सिख इसाई सभी धर्मों के लोगों को इस पवित्र काम में आमंत्रण देकर एक अनूठी मिसाल कायम की है। वह आपका धन्यवाद करते हैं। उन्होंने कहा है कि इस दौरान सभी धर्मों के लोगों को हिंदू भाइयों को धन्यवाद देना चाहिए कि वह ऐसा एक पवित्र काम करने जा रहे हैं।

    ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है कि मुस्लिमों की इस पाक काम में आस्था है। क्योंकि इस्लाम भी पैगंबरों को मानता है और राम भी एक पैगंबर थे। उन्होंने देश को और दुनिया को मर्यादा में रहना सिखाया।

    गौरतलब है कि पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले भूमि पूजन समारोह में पहुंचने वाले मेहमानों की सूचि तैयार हो गई है. इसमें राम मंदिर आंदोलन से जुड़े भाजपा, आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के वरिष्ठ नेताओं के साथ बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में मुख्य मुद्दई में से एक, बाबा रामदेव और देशभर के कई संतों को आमंत्रित किया गया है.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा आयोजित किए जा रहे इस भूमि पूजन समारोह में आने के लिए मुहर लगा दी है।

    ट्रस्ट के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुस्लिम नेताओं को भी आमंत्रण भेजा है, जिसमें उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्र वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ज़फर फारूक़ी और यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वासिम रिज़वी भी शामिल हैं।

  • Ram Janmabhoomi trust trust gave a message of brotherhood by inviting people of all religions on the demand of aimf: Asif

    IMG_4432The National President of the new delhi all india government friend, s m asif has said that the ram janmabhoomi trust trust on the demand of all india minority friend in the ram janmabhoomi foundation ceremony, has made an example of a brotherhood in the country by inviting the people of all religions. In the country where brotherhood will increase, there will be a feeling of love in the country on the other side.

    He has written a letter giving thanks to ram janmabhoomi trust trust. And it is said that you have made a unique example by inviting all the religions to the people of all religions, including Muslims on the demand of all india government. They thank you. He has said that during this time, people of all religions should thank hindu brothers that he is going to do such a holy work.

    All India government front National President s m asif has said that Muslims have faith in this pak work. Because Islam also considers the paigambarōṁ and ram was also a prophet. They taught the country and the world to live in dignity. It is a thought that the list of guests who have reached the land worship ceremony in Ayodhya on August have been prepared. It has been invited to many saints in the babri Masjid Demolition Case, along with the senior leaders of BJP, RSS and vishwa Hindu Parishad, associated with the ram temple movement, Baba Ramdev and many saints of the country.

    Prime Minister Narendra Modi has set a stamp to come to this land worship ceremony being organized by Shri Ram Janmabhoomi Tirtha area trust.

    The Senior Officer of the trust said that he has also sent an invitation to the Muslim leaders, including the president of the Uttar Pradesh Sunni centre waqf board, zafar phārūqī and the chairman of up Shia central waqf board, Chishtian Rizvi.

  • राम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट ने Aimf की मांग पर सभी धर्मों के लोगों को आमंत्रण देकर भाईचारे का संदेश दिया : आसिफ

    sm-asif-picनई दिल्ली ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रेंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है कि राम जन्मभूमि शिलान्यास समारोह में ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रेंड की मांग पर राम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट ने सभी धर्मों के लोगों को आमंत्रण देकर देश में एक भाईचारे की मिसाल कायम की है इससे देश में जहां भाईचारा बढ़ेगा तो वहीं दूसरी ओर देश प्रेम की भावना भी लोगों में बढ़ती रहेगी उन्होंने राम जन्मभूमि न्यास ट्रस्ट को धन्यवाद देते हुए एक पत्र लिखा है। और कहा है कि आपने ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रं ट की मांग पर मुस्लिमों सहित सिख इसाई सभी धर्मों के लोगों को इस पवित्र काम में आमंत्रण देकर एक अनूठी मिसाल कायम की है। वह आपका धन्यवाद करते हैं। उन्होंने कहा है कि इस दौरान सभी धर्मों के लोगों को हिंदू भाइयों को धन्यवाद देना चाहिए कि वह ऐसा एक पवित्र काम करने जा रहे हैं।

    ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है कि मुस्लिमों की इस पाक काम में आस्था है। क्योंकि इस्लाम भी पैगंबरों को मानता है और राम भी एक पैगंबर थे। उन्होंने देश को और दुनिया को मर्यादा में रहना सिखाया।

    गौरतलब है कि पांच अगस्त को अयोध्या में होने वाले भूमि पूजन समारोह में पहुंचने वाले मेहमानों की सूचि तैयार हो गई है. इसमें राम मंदिर आंदोलन से जुड़े भाजपा, आरएसएस और विश्व हिंदू परिषद के वरिष्ठ नेताओं के साथ बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में मुख्य मुद्दई में से एक, बाबा रामदेव और देशभर के कई संतों को आमंत्रित किया गया है.

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा आयोजित किए जा रहे इस भूमि पूजन समारोह में आने के लिए मुहर लगा दी है।

    ट्रस्ट के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मुस्लिम नेताओं को भी आमंत्रण भेजा है, जिसमें उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्र वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ज़फर फारूक़ी और यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वासिम रिज़वी भी शामिल हैं।