• बिहार शरीफ में Aimf के प्रत्याशी इरशाद अहमद ने किया जनसंपर्क,लोगो ने किया स्वागत

    irshad-ahmedपटना : ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के बिहार शरीफ विधानसभा के उम्मीदवार इरशाद अहमद ने आज अपने जनसंपर्क में बिहार शरीफ के कई इलाकों का दौरा कर लोगो से जनसंपर्क किया । इस दौरान लोगों ने भी एआईएमएफ के उम्मीदवार इरशाद अहमद का जगह जगह स्वागत किया। जनसंपर्क के दौरान इरशाद अहमद ने बताया कि लोग नीतीश और बीजेपी की सरकार से अजीज आ चुके है। और इस बार बिहार के लोग पूरी तरह से बदलाव देखना चाहते है। उन्होंने कहा कि बिहार को पिछले 15 सालों में लूटा खसोटा गया है। बिहार में बच्चे,बुजुर्ग,महिला,युवा कोई भी सुरक्षित नहीं है। पूरे बिहार के लोग अब बदलाव देखना चाहते हैं। और इसके लिए बिहार शरीफ में ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के लिए वोट होगा।

  • बीजेपी का एनआरसी लाने का नया जुमला बिहार में नहीं चलेगा : आसिफ

    भूखे पैदल मजदूरों को बैलगाड़ी भी नहीं दी अब हेलीकाप्टर पर चढ़ वोट मांगते हैं : माइनोरिटी फ्रंट

    IMG_4432नई दिल्ली। ऑल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट ने भाजपा के अध्यक्ष जेपी नड्डïा के उस बयान को जुमला कहा है जिसमें उन्होंने एनआरसी को लागू करने का ऐलान किया है। फ्रं ट ने पूछा है कि भाजपा कैसी पार्टी है जिसका प्रधानमंत्री दिल्ली के रामलीला मैदान में कहता है कि एनआरसी नहीं लाया जाएगा। लेकिन उसी पार्टी का अध्यक्ष कहता है कि एनआरसी लागू करेंगे। प्रधानमंत्री मोदी को एक बार फिर स्पष्टï करना चाहिए कि वो सही कहते हैं या उनकी पार्टी का अध्यक्ष सही कह रहा है. वे समझ लें  देश एनआरसी पहले ही नकार चूका है।

    ऑल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने यहां जारी बयान में कहा है कि एनआरसी के मामले में भाजपा बंटी हुई है, इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री के बीच एनआरसी पर मतभेद सामने आ चुके हैं। तब प्रधानमंत्री की फजीहत हुई थी। शायद इसीलिए अब अमितशाह को मुख्यधारा से अलग कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि यह साबित हो गया है कि भाजपा विरोधाभास और जुमलेबाजों की पार्टी है।

    बिहार में चुनाव प्रचार की सरगर्मियों के बीच  आसिफ ने पटना से जारी बयान में कहा है कि राज्य के मजदूरों व जनता को याद रखना होगा कि प्रवासी मजदूर जब भूखे प्यासे नंगे पांव पैदल अपने घर लौट रहे थे उस समय उनकी राह को आसान करने के लिए न मोदी सरकार औन न ही नीतीश सरकार सामने आई लेकिन वहीं लोग अब 22 -22 हेलिकाप्टरों से बिहार में चुनाव के लिए उतार चुके हैं। उनके पास कारों का काफिला मौजूद है। ये लोग फिर से सत्ता हथियाने के लिए बिहार की जनता को भरमाने की कोशिश कर रहे हैं। केन्द्र सरकार के मंत्रियों और नीतीश सरकार की पूरी कैबिनेट पटना को अपनी छावनी बनाकर बैठी हुई है। असहाय बिहार को रोजी रोटी और रोजगार चाहिए लेकिन एनडीए का गिरोह उन्हें लालच देकर भरमाने की जुगत में है।

    आसिफ ने कहा कि नीतीश ने बिहार में उद्योग लगाने की संभावना से जहां इनकार किया वहीं लालूजी के सुपुत्र आरजेडी के अध्यक्ष तेजस्वी यादव चुनाव में वादा कर रहे हैं कि बिहार में उद्योग विकसित करेंगे। उन्हें या उनके पिता लालू को बताना चाहिए कि 15 वर्षों के शासन में उन्होंने उद्योग क्यों नहीं विकसित किए। और यह भी बताएं कि 18 माह नीतीश के साथ उपमुख्यमंत्री रहने के दौरान उन्हें उद्योग लगाने का विचार क्यों नहीं सूझा? फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा कि दरअसल ये सभी दल और उसके नेता दिल से नहीं चाहते कि राज्य में औद्योगिक क्रांति आए। उन्हें लगता है कि अगर बिहार के आम जन की सम्पन्नता बढ़ी तो उन्हें फिर कुर्सी नहीं मिलेगी। वे चाहते हैं कि बिहार प्रवासी मजदूरों की आपूर्ति करने वाला राज्य बना रहे ताकि वे कमा कर बिहार में लाएं और उनके धन से सत्ता में बैठे लोग मौज उड़ाएं।

    आसिफ ने कहा कि इस निर्णयक दौर में बिहार की जनता जाति पाति धर्म की संकीर्णता से उठकर बिहार के स्वाभीमान और सम्मान की रक्षा के लिए मतदान करेगी। प्रगतीशील लोकतांत्रिक गठबंधन सरकार बानाते ही अपने घोषित एजेंडा को लागू करना शुरू कर देगी।

  • बलात्कार और फिर महिला के शव को जलवाने वाले बिहार में चुनाव प्रचार कर रहे हैं- आसिफ

    प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन पंचायत स्तर तक रोजगार का अवसर देगा- आसिफ

    IMG_4432नई दिल्ली। आल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है कि सत्ता में आने पर हमारा प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन बिहार में पंचायत स्तर तक रोजगार के साधन उपलब्ध कराएगा। गठबंधन की सरकार 20 -20 ग्राम पंचायतों के स्तर पर छोटे बड़े उद्योगों की स्थापना करेगी ताकि बिहार के स्वाभिमानी मजदूरों को दूसरे राज्यों में जाकर अपमानजनक स्थिति में आजीविका के लिए भटकना न पड़े। उन्होंने कहा कि यह दुखद स्थिति है कि चुनाव के समय भी मजदूर आजीविका के लिए बिहार से पलायन करने को मजबूर हैं।  इसके लिए नीतीश और मोदी जिम्मेवार हैं।

    माइनोरिटी फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने फ्रंट की महत्त्वपूर्ण बैठक के बाद यहां संवाददाताओं के बताया कि प्राकृतिक और मानव सम्पदा से भरपूर बिहार में उद्योग एवं रोजगार सबसे बड़े सवाल हैं। इसलिए हमारा गठबंधन सबसे पहले राज्य में इस विषय पर काम करेगा। हर हाथ को काम दिया जाएगा।

    एक सवाल के जावाब में जनाब आसिफ ने कहा कि यह शर्म की बात है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ निर्लज्जता पूर्वक बिहार के चुनाव प्रचार में उतर आएं जबकि उनके राज में यूपी अपराध और बलात्कार की राजधानी बन गया है। उन्होंने कहा कि बिहार को ऐसे व्यक्ति को बर्दश्त नहीं करना चाहिए जो बलात्कार के बाद मासूम महिला के शव को जलाए जाने की अनुमति दे। उन्होंने कहा कि उस महिला को इसलिए जलाया गया कि बलात्कारियों के खिलाफ कोई पुख्ता सबूत न बचे। इतना ही नहीं बलात्कार के बाद जलाई गई महिला के परिवार को सान्त्वना देने वाले नेताओं को को रोका और उनको अपमानित करने की कोशिशें भी कीं।

    आसिफ ने कहा कि योगी कह रहे हैं कि मोदी और नीतीश की जोड़ी सोने पर सुहागा है। मेरा कहना है कि सोना असली हो या नकली लेकिन जब वह कान और नाक काटने लग जाए तो उसे उतार फेंकना जरूरी होता है। उन्होंने कहा कि नीतीश और मोदी ने बिहार के नाक कान काट दिए हैं। प्रदेश के लाखों भूखे असहाय मजदूर लॉक डाउन में जब जान बचाने के लिए अपने प्रदेश आ रहे थे तब नीतीश कुमार ने उन्हें प्रदेश में न घुसने देने की चेतावनी दी। नरेन्द्र मोदी खामोशी से प्रधानमंत्री निवास में मोर को दाना चुगवाते रहे। बिहार में प्रचार करने वाले मोदी बतायें कि वे बिहार के मजदूरों की तबाही, मौतें और उनकी बर्बादी को क्यों देखते रहे, तब उनके मुह से सान्त्वना का एक शब्द भी क्यों नहीं निकला। आसिफ ने कहा बिहार की जनता को यह सब याद है। उन्होंने कहा कि यह देश और बिहार सदभाव की मिसाल है ये लोग नफरतें पैदा करना चाहते हैं। संविधान की सपथ लेने वाला उनका राज्यपान संविधान का अपमान कर रहा है। जिसे बिहार देख रहा है। इसका जवाब देगा। आसिफ ने कहा कि बिहार में बदलाव की हवा बह चली है। यह हवा केन्द्र की भी सत्ता को उड़ा ले जाएगी।  प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबन्धन बिहार के सपनों को साकार करेगा।

  • भूख, बेरोजगारी और कारोना महामारी से मुक्ति के लिए नीतीश सरकार को हटाना जरूरी: आसिफ

    अबकी बार बिहार में प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन की सरकार: माइनोरिटी फ्रंट

    IMG_4432नई दिल्ली। ऑल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है कि बिहार को भूख, बेरोजगारी और कोरोना से मुक्ति दिलाने के लिए एनडीए की नीतीश सरकार को हटाना जरूरी हो गया है। केन्द्र में मोदी और बिहार में नीतीश के शासन में गरीबी भुखमरी बढ़ी है। बेरोजगार लोगों को कारोना की असहनीय मार को झेलना पड़ रहा है। एनडीए के शासन में दुनिया भर की भुखमरी की सूची में भारत 107 देशों में 94 स्थान पर आ पहँुचा है।

    माइनोरिटी फ्रंट के अध्यक्ष आसिफ ने कहा है कि कोरोना महामारी को स्वास्थ क्षेत्र ने आमदनी का अवसर बना लिया है। जैसे ही कोई मरीज अस्पताल पहँुचता है वह कोरोना का शिकार बन मौत के  मुंह में चला जाता है। उन्होंने कहा कि प्रगतिशील लोकतांन्लिक पीडीए गठबन्धन पूरे देश और बिहार की स्थिति पर नजर रखे हुए है। उसने राज्य में विकल्प देने का फैसला इसलिए किया है कि बारी बारी से राज्य में तीस वर्षों तक शासन करने वाले स्वार्थी लोगों को सत्ता में आने से रोकना है। आसिफ ने कहा कि यह गठबंधन बिहार में आमूल चूल बदलाव करेगा। गांधी और लोकनायक जयप्रकाश के सपने को साकार करेगा।

    यहां जारी बयान में आसिफ ने कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों में ना सिर्फ भारत विश्व के दूसरे स्थान पर है पर इसका प्रबंधन विचलित करने वाला है। आज देश में लगभग 75 लाख से ज्यादा  संक्रमण के मामले हैं और कऱीब 1,13,000 से ऊपर मौतें हो चुकी हैं। भारत में मृत्यु की दर पडोसी देशों पाकिस्तान,बांग्लादेश और अफगानिस्तान जैसे देशों से दुगनी है और श्रीलंका जैसे हमारे पड़ोसी देश के मुकाबले आठ गुना है । इसी तरह भारत वैश्विक भूख सूचकांक 2020 में 107 देशों की सूची में 94वें स्थान पर है और भूख की गंभीर  श्रेणी में है।

    पड़ोसी बांग्लादेश, म्यामां और पाकिस्तान भी ‘गंभीर’ श्रेणी में हैं। लेकिन इस साल के भूख सूचकांक में भारत से ऊपर हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार भारत की 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार है। इसमें बिहार का बड़ा योगदान है। आसिफ ने कहा कि बिहार में 15 साल के कुशासन के खिलाफ बिहार की जनता वोट करेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संरक्षण नीतिश कुमार ने आंखें बन्द कर रखी हैं जनता उस पर वोट करेगी, अपराध के खिलाफ वोट करेगी,भुखमरी के खिलाफ वोट करेगी, कोरोना काल में मुख्यमंत्री   ने पट्टी बांध कर आंखें हटा कर हराभरा दिखाने की कोशिश कर रहे हैं जनता उस पर वोट करेगी,तो बिहार के मुद्दे बहुत बड़े हैं और ये दुर्भाग्यपूर्ण है चुनाव के समय एनडीए साम्प्रदायिकता को हवा दे रही है। जनता यह सब जान गई है।

  • नितीश राज में लालू राज से अधिक अपराध,बदली जाएगी इस बार सरकार : आसिफ

    IMG_4432नई दिल्ली : ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है। कि 2005 में जब लालू-राबड़ी राज का अस्त हुआ तो उसके पीछे अपराध और खासकर अपहरण कांड बड़े फैक्टर बनकर उभरे। चल रहे चुनाव प्रचार में 15 साल राज करने के बाद नितीश-बीजेपी आज भी लालू काल के अपराध का राग अलापते फिर रहे हैं और कह रहे हैं कि फिर से अपराध काे वापस लाना है ताे आरजेडी काे वाेट दाे। सवाल है कि क्या सुशासन राज में अपहरण कांडों पर लगाम लग चुकी है।

    बिहार पुलिस के आंकड़ाें के अनुसार। 2001- 16,89 अपहरण, 2002- 1,948 अपहरण, 2003- 1,956 अपहरण, 2004- 2,566 अपहरण, 2005- 2,226 अपहरण। ये लालू-राबड़ी राज के आखिरी पांच साल के अपहरण के आंकड़े हैं। अब देखिए नीतीश सरकार के 15 साल के आंकड़े…
    2006- 2,301 अपहरण, 2007- 2,092 अपहरण, 2008- 2,735 अपहरण, 2009- 3,142, 2010- 3,602, 2011- 4,211, 2012- 2,954, 2013- 5,506 + फिरौती के लिए – 70 अपहरण, 2014- 6,570 + फिरौती के लिए- 62 अपहरण, 2015- 7,127 + फिरौती के लिए- 58 अपहरण, 2016- 7,324 + फिरौती के लिए- 37 अपहरण, 2017- 8972 + फिरौती के लिए- 42 अपहरण, 2018- 10,310 + फिरौती के लिए- 46 अपहरण, 2019- 10925 + फिरौती के लिए- 43 अपहरण, 2020 (अगस्त तक) – 4982 + फिरौती के लिए- 18 अपहरण। आंकड़े आपके सामने हैं …और नेताओं के बयान भी। आसिफ ने कहां हम पीडीए गठबंधन में बिहार को जनता की सरकार देगे जिसमे अपराधी बिहार छोड़कर भागेगे।

  • बिहार की जनता को बेवकूफ ना समझे तेजस्वी,10 लाख नौकरी वाली बात जुमला है : आसिफ

    पीडीए गठबंधन  सरकार में पप्पू यादव बनेंगे मुख्यमंत्री : आसिफ

    IMG_4432नई दिल्ली : ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है।की जब सरकार के किसी कानून में एक साथ 10 लाख नौकरी देने का प्रावधान है नहीं तो फिर राजद के तेजस्वी यादव केसे यह झूठी बात बिहार की जनता को बोलकर बेवकूफ बना रहे है।

    आसिफ ने कहां किं लालू की जिस पार्टी ने दशकों बिहार में राज किया लेकिन एक भी आईएएस आईपीएस कोचिंग संस्थान नहीं खोल सके और उनके पुत्र बात करते है।10 लाख नौकरी देने की इससे बड़ा और क्या जुमला हो सकता है। आसिफ ने कहा कि यह बहुत ही दुखद हे की सबसे ज्यादा आईएएस आईपीएस अधिकारी देने वाला बिहार वहीं कोचिंग संस्थान नहीं है।

    आसिफ ने कहा कि पीडीए गठबंधन की सरकार बिहार के लोगो से वायदा करती है। कि वह जुमलेबजो की तरह कोरी घोषणा नहीं करती बल्कि बिहार को विकास के पथ पर ले जाने को संकल्पित है। आसिफ ने कहा कि  बिहार में पीडीए गठबंधन की और से मुख्यमंत्री पप्पू यादव बनेंगे और बिहार  एक चमकता बिहार होगा जहां लोगो को रोजी रोटी की व्यवस्था महिलाओ को सम्मान और अपराध मुक्त बिहार होगा।

  • बिहार की जनता जग चुकी है सपनों के सौदागर नही होंगे कामयाब : आसिफ

    आसिफ ने कसा तंज लालू और नीतीश बिहार को कितनी बार नवम्बर वन बनाएंगे

    IMG_4432नई दिल्ली। ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कृषि के  बड़े उद्योगों की स्थापना के बिना बिहार को देश में एक नम्बर का राज्य बना पाना असंभव है। हमारा प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन इन दोनों क्षेत्रों में योजनाबद्ध तरीके से काम करेगा जिससे  रोज़गार के अवसर तेज़ी से बढ़ेंगे। राज्य के लोग सम्पन्न होंगे तब व्यापार और कारोबार बढ़ेगा। इसके साथ शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में खुदबखुद प्रगति होने लगेगी।

    आसिफ ने यहां जारी बयान में कहा है कि इस छोटी सी बात को 30 वर्षों से समझ नहीं पाए हैं। उन्होंने कहा हर बार चुनाव में ये नेता और दल दावा करते हैं कि बिहार को वे एक नंबर का राज्य बनाएंगे। फ्रंट के अध्यक्ष आसिफ ने लालूजी और नीतीशजी से  पूछा है कि आप कितनी बार बिहार को नंबर एक बनाओगे ?

    उन्होंने कहा नीतीश सरकार भुखमरी बेरोज़गारी और अब कोरोना महामारी से जनता को बचाने में विफल साबित हो चुकी है। कोरोना से आम जन ही नहीं मंत्री तक को बचाने में सरकार नाकाम है।

    फ्रंट के अध्यक्ष ने कहा कि इंसानो को स्वास्थ्य सुविधा देने में नाकाम   नीतीश कुमार अब चुनाव के समय कह रहे हैं दस पंचायतों पर एक पशु अस्पताल बनाएंगे। उन्होंने कहा कि नीतीश जुमले बाज़ी छोड़ दें । इसबार उनकी काठ की हांडी जल जाएगी। उनका भ्रम जनता तोड़ देगी। आसिफ ने बिहार की जनता से कहा है वे इस बार बदलाव के वाहक प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन को संबल दें। यह गठबंधन बिहर के स्वाभिमान की रक्षा के साथ बिहार को एक उज्जवल राज्य की ओर लेकर जाएगा। उन्होंने दावा किया इसबार एनडीए के बिहार से पत्ता साफ होने निश्चित है।

  • किस मुंह से उद्योगों और बहाली कि बात कर रहें हैं बिहार के मुख्यमंत्री : आसिफ

    IMG_4432नई दिल्ली : ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के राष्ट्रीय अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा है। कि अब जब बिहार में परिवर्तन की लहर चल रही है। तो ऐसे में बिहार के मुख्यमंत्री को बिहार में उद्योग धंधों और नौकरी बहाली कि चिंता हो रही है। इससे जाहिर होता है कि नीतीश सरकार मान चुकी है कि उसने पिछले एक दशक तक बिहार में कुछ नहीं किया।

    आसिफ ने कहा कि जब पीडीए गठबंधन ने बिहार की उद्योगों और नौकरी बहाली कि बात की है। तब से नीतीश कुमार और शुशील मोदी को चिंता हो गई है।की बिहार में अब पीडीए गठबंधन की सरकार बनने जा रही है।

    आसिफ ने कहा कि चुनावी समर में नीतीश सरकार को बिहार में उद्योग धंधों और नौकरी बहाली कि झूठी घोषणा करनी पड़ रही है।इससे जाहिर होता है कि यह लोग पिछले 15 सालो से बिहार को सिर्फ लुटते रहे और बिहारी मजबूर होता रहा लेकिन इस बार पीडीए गठबंधन की सरकार बनी तो बिहार में  हर हाथ को रोजगार और हर जिले में उद्योगों की स्थापना करेगी। जिससे बिहार के लोगो को बिहार से बाहर ना जाना पड़े।

  • लोकनायक के सिपाही आगे आएं बिहार को अब परिवर्तन चाहिए-आसिफ

    बिहार चुनाव: भावी इतिहास हमारा है- माइनॉरिटी फ्रंट

    IMG_4432नई दिल्ली। आल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट बिहार की जनता से अपील की है कि आप राज्य में तीस वर्षों के शासन की विफलताओं को ध्यान में रखते हुए आगामी विधान सभा चुनाव में अपना मतदान करें। क्योंकि लोकनाय जय प्रकाश नारायण और महात्मा गांधी के सपनों को साकार करने के नाम पर सत्ता में आये नेताओं ने सिर्फ अपने निजी स्वार्थ साधे हैं और राज की अकूत धन संपदा को दोनों हाथों से लूटा है। इन लोगों ने सुशासन और विकास को जुमला बना दिया है। ये नेता जनता की भलाई नहीं कर पाए और अब हर तरह के लालच देकर आपके वोट पाना चाहते हैं।

    आल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने जात पात और धर्म के नाम पर बहकावे में न आने की अपील करते हुए कहा है कि स्वराज और सम्पूर्ण क्रांति को अमलीजामा पहनाने के लिए मौजूद शासन को हटाया जाना जरूरी हो गया है। क्योंकि इन्हें अब लोकलाज भी नहीं रही।

    आसिफ ने संघर्षिल लोकनायक जयप्रकाश नारायण के प्रहरियों, गांधीवादियों और समाजवादी व्यवस्था का सपना देखने वाले प्रबुद्ध जनों से अनुरोध किया है कि वे आगे आएं , माइनॉरिटी फ्रंट और प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक गठबंधन का समर्थन करें । उन्होंने कहा कि लाचार बना दिये गए बिहार को आप जैसे परिवर्तनवादी  शक्तियों की सख्त जरूरत है। आसिफ ने कहा कि यह समय साम्प्रदायिक शक्तियों से मुक्ति का है। इसके लिए मौजूदा सरकार से मुक्ति पाना बहुत ज़रूरी हो गया है।

    आसिफ ने कहा कि हम और हमारा राजनैतिक गठबंधन प्रदेश को विकल्प देने को तैयार है। लोकनायक के नारे “सम्पूर्ण करती अब नारा भावी इतिहास हमारा है। इसे हमें सफल  करना है। क्योंकि मजदूर किसान लाचार है। रोज़गार के अवसर खत्म हो गए हैं। बिहार से हो रहे पलायन को रोकने और प्रदेश की श्रम शक्ति को बिहार के विकास में जोड़ने के लिए परिवर्तनवादी सक्षम सरकार बनाना समय की मांग है।

  • नीतीश के पत्र ने खोली सरकार की पोल,इस्तीफा दे : आसिफ

    बिहार के विकास और सम्मान की रक्षा के लिए नीतीश ने कुछ नहीं किया : आसिफ
    कुछ किया नहीं सब कुछ फिर से करना है तो इस्तीफा दे नीतीश : आसिफ

    IMG_4432नई दिल्ली। ऑल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट ने कहा है कि मुुख्यमंत्री नीतीश कुमार  का जनता के   खुला पत्र  उनकी स्वीकारोक्ति है कि अपने पन्द्रह वर्षों के शासनकाल में बिहार के बिहार के विकास और उसके सम्मान की रक्षा के लिए वे कुछ नहीं कर पाये है। इसलिए उन्हें नैतिक आधार पर ,अपने पद से इस्तीफा देना चाहिए और इस  चुनाव से हट जाना चाहिए।

    आल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने देश की  राजधानी से जारी बयान में कहा है कि जब देश के विभिन्न शहरों में लॉक डाउन के दौरान दाने दाने को मोहताज  प्रदेश के मजदूर अपने जीवन की रक्षा के लिए अपने  घर -गांव- कस्बे को  लौट रहे थे तब नीतीश कुमार ने कहा था कि हम उन्हें बिहार में घुसने नहीं देंगे और फिर भी वे आये जब वे आ गए तब उनके लिए रोजी रोटी का कोई प्रबन्ध नहीं किया। हैरत की बात है कि  इस चुनाव के दौरान भी बिहार से मजदूरों का देश के विभिन्न शहरों की ओर पलायन जारी है। इसके लिए नितीश ही जिम्मेदार हैं। जाहिर है उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया कि मजदूर खुद को अपने ही प्रदेश में सुरक्षित समझ सकें।

    आसिफ ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्वाभिमानी  बिहारियों  के सम्मान की रक्षा करने में पूरी तरह से विफल हुए है। इसलिए अब चुनाव के मौके पर कह रहे है कि युवा शक्ति को हुनरमंद , महिलाओं को सक्षम एवं स्वावलंबी, हर खेत तक पानी पहुंचाने, स्वच्छ एवं समृद्ध गांव तथा शहर बनाने के लिए काम करेंगे।

    आसिफ ने आरोप लगाया कि  बिहार में भूखे लोगों को वे प्रधानमंत्री राहत योजना की सहायता नहीं उपलब्ध करा पाये और अब कह रहे हैं कि  मनुष्य एवं पशुओं के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं कराएंगे। उनका यह खुला पत्र बिहार की मेहनती जनता का मजाक उड़ा रहा है। उन्होंने कहा कि बिहार की जनता अब नीतीश कुमार की जुमलेबाजी को समझ गई है। प्रदेश की जनता अब संघर्षशील ऑल इंडिया माइनॉरिटी फ्रंट, प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक अलाइंस पीडीए और इसके सभी घटक दलों के साथ खड़ी है। इस बार का जनादेश दंभी नीतीश कुमार के शासन को पलट देगा।

    आसिफ ने कहा कि नीतीश के शासन में अमन-चैन और भाईचारे का वातावरण खराब हुआ है। डर का माहौल व्याप्त है। एनडीए के शासन में  देश और प्रदेश में विकास ठहर गया है। शिक्षा-स्वास्थ्य का स्तर खराब हुआ है।  घरों में पानी पहँुचा नहीं नीतीश के सभी दावे खोखले हैं। आसिफ ने कहा है कि मुख्यमंत्री बताएं कि जब बिहारी मुम्बई जैसे शहर में बेइज्जत कर भगाया जाता है तब वे खामोश क्यों रहते है। ऐसी व्यवस्था क्यों नहीं बनाई  कि प्रदेश के लोगों को दूसरे शहरों में जाना न पड़े।