चुनाव सिर पर तो सौगात लगी बंटने, सरकार बताए पिछली योजनाओं का क्या हुआ – आसिफ

नीतीश शासन में कानून व्यवस्था चौपट, आए दिन हो रही हत्याएं – आसिफ

IMG_4432नई दिल्ली। आल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट ने बिहार विधान सभा चुनाव से पूर्व की जा रही लुभावनी घोषणाओं को आदर्श चुनाव संहिता का उल्लंघन ठहराते हुए कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री राज्य की जनता को हिसाब दें कि अब से पूर्व जो घोषणाएं की गई ,उन पर कितना अमल हुआ और उनसे जनता को कितना लाभ पहँुचा।

आल इंडिया माइनोरिटी फ्रंट के अध्यक्ष एस एम आसिफ ने कहा कि प्रधानमंत्री इंजीनियर दिवस पर बिहार के अभियंताओं की तारीफ के पुल बांधते हैं लेकिन यह नहीं बताते कि बिहार में इंजीनियर बन चुके कितने युवा बेरोजगार है. सच यह है कि प्रदेश में  हजारों युवा इंजीरियर बेरोजगार है। सरकार बताये लाखों श्रमिक रोजगार के लिए फिर से दूसरे राज्यों की ओर पलायन क्यों कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोविड महामारी के शुरुआती दौर में जब लाखों भूखे पूर्वांचल के श्रमिक पलायन को मजबूर थे , उस समय  प्रधानमंत्री ने उनके लिए ऐसा कुछ क्यों नहीं किया कि वे अपने प्रदेश पलायन न करते।

दिल्ली से जारी बयान में आसिफ ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने  अपने प्रचार अभियान से बिहार को आत्मनिर्भर घोषित कर दिया है। फिर लगातार विकास योजनाओं की घोषणा का क्या सबब है? उनके इस व्यवहार से साबित हो रहा है कि बिहार में नीतीश के शासन काल में ऐसा कुछ नहीं हुआ जिससे जनता संतुष्टï हो। आसिफ ने सवाल किया कि  वे यह नहीं बताते हैं कि राज्य की जनता को उनकी योजनाएं कहां कहां लागू हुई और जनता को उनका कितना फायदा हुआ। आसिफ ने कहा कि राज्य में भुखमरी बेरोजगारी अपने चरम पर है। इसके चलते राज्य के लाखों मासूम बच्चे अपने परिवार से दूर छोटे बड़े शहरों में मेहनत मजदूरी कर परिवार का भरण पोषण कर रहे है।

जनाब आसिफ ने कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था भी चरमरा गई है। जिसकी लाठी उसकी भैस वाली स्थिति बन गई है। बिहार में ही कुछ दिन पहले वकीलों की हत्या का मामला सामने था तो सोमवार को मधेपुरा में दिन दहाड़े तीन लोगों की बदमाशों ने हत्या कर दी। अपराधी पकड़े नहीं जा रहे हैं। सरकार कानून व्यवस्था को नहीं संभाल पा रही है और तो और  कोविड काल में कंगाल हुए ट्रक ऑ़परेटरों की मांगों को सरकार पूरा  कर रही है।

उन्होंने कहा कि बिहार समस्याओं से जूझ रहा है और पीएम मोदी योजनाओं का उद्घाटन करने में जुटे हैं। वे 20 सितंबर को कोसी महासेतु समेत रेलवे की अन्य योजनाओं का े उद्घाटन करेंगे। मोदी जी  कहते है कि बिहार की धरती आविष्कार और इनोवेशन की पर्याय है फिर भी उनके और नीतीश के शासन में बिहार अति पिछड़े राज्यों की श्रेणी में ही है। इसका जवाब प्रदेश की जनता मांग रही है।

Comment is closed.