Vision

Print Friendly

>

अपना नेता खुद चुनिये।


अखिल भारतीय अल्पसंख्यक मोर्चा की एक मुहिम

तख्तोताज और निज़ाम सब आपके ही रहमोकरम पर, तो खुद क्यों ना चुनें आप अपना नुमाइंदा? अखिल भारतीय अल्पसंख्यक मोर्चा दे रहा हर एक भारतीय को यह मौका की वह खुद अपनी तदबीर से चुने अपनी तकदीर। भ्रष्टाचार, भाई भतीजावाद, इलाकावाद और मज़हबपरस्ती से अलग एक मुहिम में शामिल होईये, क्योंकि महंगाई और लूट का कोई मज़हब नहीं होता।

कोई भी शख्स जिसमें हो देश सेवा जन सेवा का ज़ज्बा, शामिल हो सकता है इस मुहिम में। बस अपने संसदीय और विधानसभा इलाके से २०० के हस्ताक्षर कराईये, नीचे का फार्म भरिये और कर दीजिये संसदीय चुनावों में अपनी दावेदारी। आप होंगे संसदीय चुनावों में ना केवल ‘अखिल भारतीय अल्पसंख्यक मोर्चा’ के उम्मीदवार, बल्कि अपने इलाके की जनता के नुमाइंदा भी
आप ही

 

 

जब तक समाज के आखिरी आदमी को उसका हुकूक ना मिल जाये , तब तक आजादी अधूरी है ? सोचिये , क्या आपको वो सब कुछ मिला जिस के आप हकदार थे ? चाहे जाति के नाम पर, चाहे मजहब के नाम पर , चाहे कुनबे या क्षेत्र के नाम पर , चाहे कहीं, जिस किसी भी रूप में अगर आपकी अनदेखी की जा रही है, तो हमें लिख भेजें, या हमसे जुडे, तुरंत, अभी, यहीं. आप के लिये , आप के साथ , आपके हक की लडाई, अखिल भारतीय अल्प संख्यक मोर्चा